अमृतसर से मलेशिया भेजे गए 180 लोग, इनमें ज्यादातर भारतीय मूल के; 6 दिन नांदेड़ में फंसे 49 श्रद्धालु गुरदासपुर पहुंचे

0
298


  • राज्य में कोरोना संक्रमण के 37 मामले सामने आ चुके हैं, इनमें से दो संक्रमितों की मौत हो चुकी है
  • ऐहतियात के तौर पर नांदेड़ से आए श्रद्धालुओं को 14 दिन के लिए होम आइसोलेशन में रहने के लिए कहा गया

दैनिक भास्कर

Mar 30, 2020, 02:43 PM IST

जालंधर. पंजाब में कोरोनावायरस संक्रमण से दो लोगों की मौत हो चुकी है। सोमवार सुबह तक 37 लोग संक्रमित हो चुके हैं। संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए देश में 21 दिन का लॉकडाउन है। वहीं पंजाब में पिछले सात दिन से कर्फ्यू लगा हुआ है। इसी बीच, सोमवार को  अमृतसर से 180 लोग मलेशिया के लिए रवाना हुए। इनमें से ज्यादातर भारतीय मूल के लोग हैं, जिन्हें मलेशिया की नागरिकता हासिल है। मलेशिया सरकार ने इन्हें वहां बुलाने के लिए विशेष विमान भेजा। रवाना होने से पहले एयरपोर्ट पहुंचे जतिंदर सिंह ने बताया कि इंटरनेशनल फ्लाइट्स रद्द होने के कारण हम यहां फंसे थे। उधर, नांदेड़ से 49 श्रद्धालु गुरदासपुर पहुंचे। कर्फ्यू के चलते बंद किए बैंक सोमवार को खुले। सुबह एक घंटे पब्लिक डीलिंग हुई, लेकिन बाद में बंद कर दी गई।

बैंक के बाहर अभ्यर्थियों की भीड़

प्रदेश में 1600 एलिमेंट्री टीचर्स ट्रेंड और 3 हजार बीएड टीचर्स की भर्ती निकाली गई थी, जिसके आवेदन की आखिरी तारीख 31 मार्च है। प्रदेश सरकार की तरफ इस आवेदन के संबंध में कोई सूचना जारी नहीं की गई कि तारीख में बदलाव होगा या नहीं। कर्फ्यू के सातवें दिन सोमवार को बैंक खुले तो फार्म भरने वालों की लगभग हर जगह भीड़ देखी गई। उनकी यह परेशानी उस वक्त और बढ़ गई, जब बैंक ने ड्राफ्ट बनाने से इनकार कर दिया।

फजिल्का में बैंक के बाहर बड़ी संख्या में अभ्यर्थी पहुंचे।

बठिंडा में सब्जी को लेकर व्यापारियों में विवाद
सोमवार सुबह बठिंडा की सब्जी मंडी में दुकानदारों के बीच विवाद हो गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने बड़ी मुश्किल से लोगों को शांत कराया। इसके अलावा पुलिस ने क‌र्फ्यू के दौरान लोगों को गुमराह करने और नाके पर तैनात पुलिस कर्मचारी से दु‌र्व्यवहार करने के आरोप में 6 लोगों को नामजद कर उनके खिलाफ मामला दर्ज किया है।

बठिंडा की सब्जी मंडी में व्यापारियों में विवाद हो गया। सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ती दिखीं। 

बठिंडा के बेअंत नगर में राशन नहीं मिलने के कारण सड़क पर आए लोग। सोशल डिस्टेंसिंग का यहां भी अता-पता नहीं।

ग्रामीणों को 10 रुपए किलो भी नहीं मिल रहा भाव
सुल्तानपुर, शाहकोट, नकोदर, मलसियां कपूरथला और आसपास के गांवों से सब्जी बेचने आए जिम्मेदारों को मंडी के सबसे पिछले हिस्से में सब्जी बेचने के लिए कहा गया। इनका कहना है कि यहां 10 रुपए किलो का रेट भी नहीं मिल रहा। पुरानी इलाकों में बिक रही सब्जियों के दाम ज्यादा हैं। मंडी अधिकारियों को शिकायत करते हुए कहा कि प्रशासन का एक रेट लिस्ट होने का दावा अव्यावहारिक है।

जालंधर में एसबीआई के बाहर लोग। आज यहां एक घंटे के लिए पब्लिक डीलिंग हुई थी। बाद में बंद कर दी गई। 

गुरदासपुर में नांदेड़ से लौटे 49 लोग होम क्वारैंटाइन
गुरदासपुर जिले के गाजीकोट के 49 लोग कर्फ्यू में फंस जाने की वजह से 6 दिन तक परेशान हुए। इन्हें गुरुद्वारे की तरफ से ट्रक बुक करके भेजा गया। सोमवार सुबह गुरदासपुर पहुंचे तो सिविल अस्पताल में चैकअप किया गया। किसी में भी कोरोना के लक्षण नहीं हैं, फिर भी ऐहतियातन 14 दिन के लिए घरों में ही रहने को कहा गया है। स्वास्थ्य विभाग भी निगरानी  रखेगा।

गुरदासपुर में नांदेड़ से लौटे सिख श्रद्धालु।



Source link

Leave a Reply